Wishes

Happy new year 2018 shayri in hindi

पेश है Happy New year 2018 shayri hindi  दोस्तो, नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं मेरी त़रफ से। नये साल की नई फ़िज़ाऐं आपको सेहतमंद और आपके अरमानों को पूरा करें ।

 

ये भी पढ़ें- /रघुपतिसहाय-फ़िराक़ गोरख/

Happy new year 2018 shayri hindi

New year 2018
New year 2018

Happy new year 2018 shayri hindi में प्रस्तुत है मेरे कुछ अश्आर।

लम्हा-लम्हा गुज़रता है… यूं दिन गुज़र जाते हैं और इसी तरह फिर महीने भी। वह पल भी फिर आता है जब साल गुज़रने को होता है। यह सिलसिला सदियों से सदियों तक का है ।

हर दौर के लोगों के लिए यह भावुक क्षण रहा है जब मौजूदा साल गुज़र जाने को होता है और नया साल बस! सामने हीं हमारी ज़िंदगी में शामिल होने को तैयार खड़ा होता है।
पुराने दौर के शायरों ने भी इस मौके पर शे’र कहें हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब साहब अर्ज करते हैं

देखिए पाते हैं उश्शाक़ बुतों से क्या फ़ैज़
एक बरहमन ने कहा है कि यह साल अच्छा है।

बहरहाल, इस मौक़े पर  मेरी तरफ से आप सबको उपहार स्वरूप मेरे  कुछ अशआर (शे’र) और कविताओं की चंद पंक्तियां प्रस्तुत है

1.
कई ख़्वाबों को सच कर के गुज़रते जा रहे हैं ये
गुज़रते साल के हैं पल बहुत याद आ रहे हैं ये।

New year
New year 2018

 

2
पनों को पंख दे के है जाने को साल एक
परवाज़ उसको साल नया देने आ गया।

3

सुहाने लग रहे हैं कोहरे- किरणों के ये मिश्रण

सुवासित भोर यूँ नव वर्ष का करती हैं अभिनंदन

हमें इक मशविरा देते हुए जाती हैं ये घड़ियां
ज़रा तुम सब्र रखना वक़्त आगे और है बढ़ियां

Happy new year 2018 shayri hindi

 

5
अधूरे ख़्वाब माना रह गये हैं ख़ैर ग़म है क्या
पुराने साल के पीछे नया इक साल भी तो है

6
बदल जायेंगे मंजर पा ही लेंगे मंज़िलें अपनी
फ़ज़़ा होगी नई औ’ जह्न ये ख़ुशहाल भी तो है

7
छन्न पकैया छन्न पकैया नया साल है आया
सुरभित रुत ने वन उपवन में स्वागत गान सुनाया

8
नया वो दौर इसी रात रथ से उतरेगा
दुआ है आपके ख़्वाबों में रंग दे पहले..

9
भला बुरा ये गुज़र हीं गया, अब आगे से
देखिए साल नया क्या सलूक करता है

10
हम आपके लिए हर वक़्त थे, रहेंगे भी
यही था भाव वही आज भी उभरता है ।

http://neelpen.com/happy-new-year-2018-shayri-hindi/
New year 2018

11
हमसे मंज़िलें अभी दूर हैं…
जज्बात को महफ़ूज रखो
थके हौसले बस चूर हैं

यही तो कह रहा है नया साल फिर से आकर
उंगलियां थामो मेरी… चलो…
अभी रुकने का समय हुआ नहीं
रास्ता तय हुआ नहीं….

12
समा कैसा ये बंध रहा है औ’
कैसी शम्अ जल रही है
बात बात में किस सुब्ह़ की
भला बात निकल रही है
हर कली क्यों जल्दी जल्दी यूँ
गुल में बदल रही है
सारे मंजर चमक रहे हैं
नज्जारा ए इस्तक़बाल है
कह रही है शबनम साहिब!
आया नया साल है

जैसा कि मैंने उपर ज़िक्र किया ,पुराने दौर के मक़्बूल शाइरों ने भी नये साल के मौक़े पर शायरी की है।

अहमद फ़राज़ साहब ग़ालिब के शे’र के हवाले से कहते हैं

“न शब ओ रोज़ हीं बदले हैं न हाल अच्छा है

किस बरहमन* ने कहा था कि ये साल अच्छा है”

*ब्रहमन

यकुम* जनवरी है नया साल है

दिसम्बर में पूछूंगा क्या हाल है. __अमीर कज़लवाश

*First

ये किस ने फ़ोन पे दी साल ए नौ तहनियत1 मुझको

तमन्ना रक़्स करती है तख़युल2 गुनगुनाता है___अली सरदार जाफरी

1शुभकामनाऐं

2ख़्याल

इन्हीं चंद अपने अश्आर (शे’र) और दीगर शाइरों की शाइरी के साथ एक बार फिर से आप सभी को नये साल की ढेर शुभकामनाएं ।Happy New year 2018.

 

 

6 thoughts on “Happy new year 2018 shayri in hindi

  1. आपको बहुत खुश नया साल बधाई
    आशा है कि भगवान आपके सपने पूरे करेंगे

  2. हमसे मंज़िलें अभी दूर हैं…
    जज्बात को महफ़ूज रखो
    थके हौसले बस चूर हैं

    यही तो कह रहा है नया साल फिर से आकर
    उंगलियां थामो मेरी… चलो…
    अभी रुकने का समय हुआ नहीं
    रास्ता तय हुआ नहीं….

    यह कविता जीवन के कई अर्थ ले जा रही है !

    गजब, क्या खूब !

  3. हमें इक मशविरा देते हुए जाती हैं ये घड़ियां
    ज़रा तुम सब्र रखना वक़्त आगे और है बढ़ियां

    very motivating

    1. रचना तक आने और सराहना के लिए बहुत बहुत शुक्रिया। नव वर्ष मंगलमय हो!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *